वर्धमान त्रिफला गोमूत्र चूर्ण (सर्व विकार)

घटक पदार्थ और उतकी मात्रा

  1. बीज निकालकर सुखाई हरड़ : 100 ग्राम
  2. बीज निकालकर सुखाया बहेड़ा : 200 ग्राम
  3. बीज रहित सूखा आंवला : 300 ग्राम
  4. गोमूत्र क्षार : 600 मिलीलीटर

बनाने की विधि

  1. एक चीनीमिट्टी के अथवा अच्छी गुणवत्ता के प्लास्टिक के बर्तन में 100 मिलीलीटर गौमूत्र क्षार में बीज निकालकर सुखाई हरड 100 ग्राम भिगा दें ।
  2. आठवें दिन दूसरे पात्र में 200 मिलीलीटर गोमूत्र क्षार में बीज निकालकर सुखाया बहेड़ा 200 ग्राम भिगा दें ।
  3. 15 वें दिन तीसरे पात्र में 300 मिलीलीटर गौमूत्र क्षार में 300 ग्राम बीजरहित सूखा आंवला भिगा दें ।
  4. 22 वें दिन हरड़, बहेड़ा और आंवला क्रमशः 21, 14, 7 दिन गोमूत्र क्षार में भीग जाने पर तीनों बर्तन धूप में रखकर हरड़, बहेड़ा और आंवला पुर्णतः सुखा लें ।
  5. इसके पश्चात सबका अलग-अलग कपड़ाछान चूर्ण बना लें ।
  6. इस पूरी प्रक्रिया के अंत में हरड़, बहेड़ा और आंवला के चूर्ण भार, शोषित गोमूत्र क्षार की मात्रा के अनुपात में कुछ न्यूनाधिक हो जाता है । अतः बनाए हुए सभी चूर्णों को पुनः तौल लें । तत्पश्चात 1 भाग हरड चूर्ण, 2 भाग बहेड़ा और 3 भाग आंवला चूर्ण लेकर, डिब्बे में डाल कर एक जीव होने तक मिला लें ।
  7. यह चूर्ण कांच की बरनी में भरकर रख दें ।

3 प्रकार के पंचगव्य प्रशिक्षण शिविर

देशी गाय से 1 लाख रुपया महीना कमाने के 9 सूत्र

अर्कयंत्र खरीदें

Grass Fed Cow Ghee

प्राकृतिक एवम् पॅंचगव्य चिकित्सा

गौ-नस्य

निशुल्क चिकित्सा

गव्यशाला

गौ आधारित वैदिक पंचगव्य गुरुकुल एवम् चिकित्सा केंद्र

गव्यशाला... एक ऐसा स्थान जहाँ आप सीखेंगे पंचगव्य के माध्यम से शरीर का रोग निदान एवम् उत्पाद निर्माण...

गव्यशाला
विधाधर नगर
जयपुर
राजस्थान- 302023 भारत