गव्यरक्षक बनें ओर कमाएं रुपया 2500/- से 100000/- मासिक

पंचगव्य से औषधियां और उत्पाद बनाने से होने वाले लाभ

पंचगव्य से निर्मित औषधियों के सेवन से रोग दूर होते हैं ।

पंचगव्य से बने उत्पाद पूर्णतः रसायनमुक्त होने के कारण आरोग्यदायी होते हैं ।

गौ माता के शरीर से निरंतर सत्वकणों का प्रक्षेपण होता रहता है; इसलिए पंचगव्य से निर्मित औषधियां और उत्पाद सात्विक होते हैं । उनके प्रयोग से सात्विकता मिलती है ।

गोपालन के साथ-साथ उत्पादक बनाने से गोपालकों की आय बढ़ती है । गोमूत्र और गोमय (गोबर) का कुशलतापूर्वक उपयोग करने पर एक गाय से प्रतिवर्ष 300000 रुपए कमाए जा सकते हैं । इतनी आग कैसे होती है ? इसका विस्तार से विवेचन सनातन के ग्रंथ गो संवर्धन (जेविक कृषि और पंचगव्य चिकित्सा से लाभ) में किया है ।

स्वास्थ्य एवं धन की प्राप्ति होने के कारण गोपालन व्यवसाय को बढ़ावा मिलता है ।

समाज को गौमाता का महत्व ज्ञात होता है । इससे समाज में गौ माता के प्रति आस्था बढ़ती है ।

गोपालको में जन जागरण किया जाए तो वह कसाइयों को गाय नहीं बेचेंगे । इससे गौरक्षा में सहायता होगी ।

पंचगव्य से बनी औषधियों तथा उत्पाद पूर्णतः स्वदेशी होते हैं इससे स्वदेशी को प्रोत्साहन मिलता है ।

3 प्रकार के पंचगव्य प्रशिक्षण शिविर

देशी गाय से 1 लाख रुपया महीना कमाने के 9 सूत्र

अर्कयंत्र खरीदें

Grass Fed Cow Ghee

प्राकृतिक एवम् पॅंचगव्य चिकित्सा

गौ-नस्य

निशुल्क चिकित्सा

गव्यशाला

गौ आधारित वैदिक पंचगव्य गुरुकुल एवम् चिकित्सा केंद्र

गव्यशाला... एक ऐसा स्थान जहाँ आप सीखेंगे पंचगव्य के माध्यम से शरीर का रोग निदान एवम् उत्पाद निर्माण...

गव्यशाला
विधाधर नगर
जयपुर
राजस्थान- 302023 भारत