गव्यरक्षक बनें ओर कमाएं रुपया 2500/- से 100000/- मासिक

केशंसवर्धक तेल

घटक पदार्थ और उनकी मात्रा

  1. तिल का तेल : एक लीटर
  2. ताजा भ्रंगराज : 100 ग्राम
  3. नए पहाड़ी आंवले : 50 ग्राम
  4. ब्राह्मी : 25 ग्राम
  5. नागरमोथा : 10 ग्राम
  6. गोमूत्र : 100 मिलीलीटर
Next Panchgavya Workshop
बनाने की विधि
  1. लोहे की कडाही में तिल का तेल चूल्हे पर तपाएं ।
  2. भ्रंगराज, आंवला, ब्रह्मी और नागरमोथा खलबत्ते में अलग-अलग कूट कर एक-एक कर तेल में डालते रहें ।
  3. अंत में उसने गोमूत्र छोड़कर मन्द आंच पर उबालें ।
  4. तेल से पानी का अंश पूर्णतः निकल जाने पर कडाही को चूल्हे से उतार दें ।
  5. तेल जब तप्त रहे, तभी स्टील की छन्नी से छान लें ।
  6. तेल ठंडा होने पर बोतल में भर कर रख दें।

3 प्रकार के पंचगव्य प्रशिक्षण शिविर

देशी गाय से 1 लाख रुपया महीना कमाने के 9 सूत्र

अर्कयंत्र खरीदें

Grass Fed Cow Ghee

प्राकृतिक एवम् पॅंचगव्य चिकित्सा

गौ-नस्य

निशुल्क चिकित्सा

गव्यशाला

गौ आधारित वैदिक पंचगव्य गुरुकुल एवम् चिकित्सा केंद्र

गव्यशाला... एक ऐसा स्थान जहाँ आप सीखेंगे पंचगव्य के माध्यम से शरीर का रोग निदान एवम् उत्पाद निर्माण...

गव्यशाला
विधाधर नगर
जयपुर
राजस्थान- 302023 भारत