गोमुत्र कर्ण औषधि (कानों के विकार)

घटक पदार्थ

सूर्य जब रोहिणी नक्षत्र में भ्रमण कर रहा हो, तब अर्थात 26 मई से 8 जून मध्य किसी रात्रि में प्राप्त किया हुआ गोमुत्र 100 मिलीलीटर

इस अवधि में धूप कडी होती है; इसलिए इस गोमुत्र पर सूर्य तरंगों का संस्कार हुआ रहता है ।

बनाने की विधि

स्वच्छ सूती कपड़े की चार परतें बनाकर उससे इस गोमुत्र को छानकर ड्रापर वाली शीशियों में भरकर रख दें ।

3 प्रकार के पंचगव्य प्रशिक्षण शिविर

देशी गाय से 1 लाख रुपया महीना कमाने के 9 सूत्र

अर्कयंत्र खरीदें

Grass Fed Cow Ghee

प्राकृतिक एवम् पॅंचगव्य चिकित्सा

गौ-नस्य

निशुल्क चिकित्सा

गव्यशाला

गौ आधारित वैदिक पंचगव्य गुरुकुल एवम् चिकित्सा केंद्र

गव्यशाला... एक ऐसा स्थान जहाँ आप सीखेंगे पंचगव्य के माध्यम से शरीर का रोग निदान एवम् उत्पाद निर्माण...

गव्यशाला
विधाधर नगर
जयपुर
राजस्थान- 302023 भारत