गोमय भस्म (सर्व विकार)

  • घटक पदार्थ : गोमय (गोबर)
  • बनाने की विधि
    1. गोमूत्र अथवा गोमय एकत्र करें ।
    2. जब गाय गोबर दे रही हो, तब भूमि पर गिरने से पहले ही उसे बांस की टोकरी में अथवा केले के पत्ते समान बड़े पत्ते पर रोक लें । भूमि पर गिरा हो गोबर न लें ।
    3. गाय के गोबर देने के लगभग 3 घंटे पश्चात गोबर में कीड़े बनना आरंभ होता है । इसलिए गोमय मिलते ही बड़े पत्ते अथवा बांस की चटाई पर इसके उपले थाप दें । इन उपलों को (कंडो को) कड़ी धूप में सुखा लें ।
    4. उपले जब अच्छे से सूख जाएं, तब उन्हें आवश्यक संख्या में लेकर, नीचे दिए चित्र के अनुसार घी का एक दीया रखने के लिए स्थान छोड़कर, एक के ऊपर एक उपले रखें । दीया और उपले में इतना अंतर रखे कि भीतर रखा दिया जलाया जा सके तथा उसे जलाने पर उसकी लौ ऊपर के उपले को लगे ।
    5. अब भीतर रखा घी का दीया जलाएं इससे सभी उपले धीरे-धारे जलने लगेंगे । उपले पूरे जल जाने पर वह भुरभुरे हो जाते हैं; परंतु रहते उसी आकार और स्थिति में है ।
    6. ये जले हुए उपले धीरे से एक-एक कर उठाएं और बोरी में भर लें तथा बोरी को मुंह बांध दें । अब इस बोरी को लाठी से पीट-पीट कर, जले हुए उपलों का चूर्ण बना दें ।
    7. उपले के इस चूर्ण को बारीक चलनी से छान लें । यह चूर्ण ही ‘गोमय भस्म’ है ।
    8. इस प्रकार से बनाई भस्म वायु रोधक बरनी में रखें ।
    9. गोबर से उपले बनने का कार्य कड़ी धूप के समय ही करें । इसके लिए उपले मकर सक्रांति से लेकर वर्षाऋतु आरंभ होने के पहले तक बना लें । इन सूखे उपलों को जलाकर, गोसय भस्म पूरे वर्ष में कभी भी बनाई जा सकती है ।
पंचगव्य चिकित्सा प्रशिक्षण निशुल्क: पंचगव्य उत्पाद निर्माण शिविर पंचगव्य उत्पाद

पॅंचगव्य चिकित्सा मे डिप्लोमा

निशुल्क पॅंचगव्य उत्पाद निर्माण एवम् प्रक्षिक्षण शिविर

प्राकृतिक एवम् पॅंचगव्य चिकित्सा

गौ-नस्य

निशुल्क चिकित्सा

गव्यशाला

गौ आधारित वैदिक पंचगव्य गुरुकुल एवम् चिकित्सा केंद्र

गौ लोक धाम... एक ऐसा स्थान जहाँ आप सीखेंगे पंचगव्य के माध्यम से शरीर का रोग निदान एवम् उत्पाद निर्माण...

गव्यशाला
विधाधर नगर
जयपुर
राजस्थान- 302023 भारत