गव्य पित्त बहिर्गमन चूर्ण

घटक पदार्थ और उनकी मात्रा

  1. मंजिष्ठा का मोटा चूर्ण : 200 ग्राम
  2. गोमूत्र क्षार : 200 मिलीलीटर
  3. काला नमक : 10 ग्राम
  4. सेंधा नमक : 10 ग्राम

बनाने की विधि

  1. एक चीनीमिट्टी के अथवा अच्छी गुणवत्ता के प्लास्टिक के बर्तन में गोमूत्र क्षार लेकर उसमे मंजिष्ठा का मोटा चूर्ण मिलाएं ।
  2. उपर्युक्त मिश्रण 15 दिन तक उसी स्थिति में रहने दें ।
  3. 16वें दिन, भीगा हुआ मंजिष्ठा चूर्ण थाली में निकालकर कड़ी धूप में सुखा लें ।
  4. पूर्णतः सूख जाने पर कपड़ा छान चूर्ण बना लें । इस चूर्ण में काला नमक और सेंधा नमक का बारीक चूर्ण अच्छे से मिलाकर, कांच की वायु रोधक बरनी में रख दें ।

3 प्रकार के पंचगव्य प्रशिक्षण शिविर

देशी गाय से 1 लाख रुपया महीना कमाने के 9 सूत्र

अर्कयंत्र खरीदें

Grass Fed Cow Ghee

प्राकृतिक एवम् पॅंचगव्य चिकित्सा

गौ-नस्य

निशुल्क चिकित्सा

गव्यशाला

गौ आधारित वैदिक पंचगव्य गुरुकुल एवम् चिकित्सा केंद्र

गव्यशाला... एक ऐसा स्थान जहाँ आप सीखेंगे पंचगव्य के माध्यम से शरीर का रोग निदान एवम् उत्पाद निर्माण...

गव्यशाला
विधाधर नगर
जयपुर
राजस्थान- 302023 भारत