गोमय दंतमंजन

  • टक पदार्थ तथा उनकी मात्रा
    1. उपले का कोयला : 1 किलोग्राम
    2. सेंधा नमक : 50 ग्राम
    3. काला नमक : 50 ग्राम 10
  • बनाने की विधि
    1. उपलों की छोटी सी राशि खड़ी कर, घी के दिए से उपले जलाएं ।
    2. जब अपनों की राशि जलकर लाल हो जाए, तब उचित आकार के पतीले से उसे पूरा ढक दें । अब भूमि से सटी पतीले की किनार को मिट्टी से ढक दें । इससे प्राणवायु की आपूर्ति खंडित होगी और जलते हुए उपले शीघ्र बुझ जाएंगे ।
    3. उपलें को पतीले से ढके बिना दूसरी विधि भी अपनाई जा सकती है । 2*2*2 घनफुट आकार के गड्ढे में उपले जलाएं । जब ये जलकर लाल हो जाएं, तब इस गड्ढे को किसी धातु के / टीन के ढक्कन से पुर्णतः ढक दें और ढक्कन के किनारे मिट्टी से बंद कर दें ।
    4. दूसरे दिन ढका हुआ पतीला अथवा गड्ढे पर रखा ढक्कन हटा दें ।
    5. अब काले रंग का कोयला बनकर तैयार है । इसे निकालकर कपड़ाछान चूर्ण बनाकर इसका उपयोग दंतमंजन बनाने के लिए करें । कोयले के चूर्ण में अन्य घटक पदार्थों का कपड़छान चूर्ण बनाकर उन्हें आपस में अच्छे से मिलाएं । यह दंतमंजन छोटी-छोटी डिब्बियों में भरकर रख दें ।
पंचगव्य चिकित्सा प्रशिक्षण निशुल्क: पंचगव्य उत्पाद निर्माण शिविर पंचगव्य उत्पाद

पॅंचगव्य चिकित्सा मे डिप्लोमा

निशुल्क पॅंचगव्य उत्पाद निर्माण एवम् प्रक्षिक्षण शिविर

प्राकृतिक एवम् पॅंचगव्य चिकित्सा

गौ-नस्य

निशुल्क चिकित्सा

गव्यशाला

गौ आधारित वैदिक पंचगव्य गुरुकुल एवम् चिकित्सा केंद्र

गौ लोक धाम... एक ऐसा स्थान जहाँ आप सीखेंगे पंचगव्य के माध्यम से शरीर का रोग निदान एवम् उत्पाद निर्माण...

गव्यशाला
विधाधर नगर
जयपुर
राजस्थान- 302023 भारत