कफ प्रकृति

1. शारीरिक गठन – सुडौल, चिकना, मोटा शरीर होता है, इन्हें सर्दी कष्ट देती है ।

2. वर्ण – गोरा

3. त्वचा – चिकनी, पानी से गीली हुर्इ सी नम होती है, अंग सुडौल और सुन्दर

4. केश – घने, घुंघराले, काले केश होना ।

5. नाखून – नाखून चिकने

6. आंखें – सफेद

7. जीभ – सफेद रेग के लेप वाली

8. आवाज – मधुर बोलने वाला

9. मुंह – मुंह या नाक से बलगम अधिक निकलता है ।

10. स्वाद – मुंह का स्वाद मीठा-मीठा सा रहना, कभी लार का बहना ।

11. भूख – भूख कम लगती है, अल्प भोजन से तृप्ति हो जाती है, मन्दागिन रहती है ।

12. प्यास – प्यास कम लगती है ।

13. मल – सामान्य ठोस मल, मल में चिकनापन या आंव का आना ।

14. मूत्र – सफेद सा, मूत्र की मात्रा अधिक होना, गाढ़ा व चिकना होना ।

15. पसीना – सामान्य पसीना, ठंडा पसीना ।

16. नींद – नींद अधिक आना, आलस्य और सुस्ती आना ।

17. स्वप्न – नदी, तालाब, जलाशय, समुद्र आदि देखना ।

18. चाल – धीमी, स्थिर (एक जैसी) चाल वाला होता है ।

19. पसन्द – सर्दी बुरी लगती है और बहुत कष्ट देती है, धूप और हवा अच्छी लगती है, नम मौसम में भय लगता है, गरमा गरम भोजन और गर्म पदार्थ प्रिय लगते हैं, गर्म चिकने चरपरे और कड़वे पदार्थों की इच्छा अधिक होती है ।
20. नाड़ी की गति – मन्द-मन्द (कबूतर या मोर की चाल वाली), कमजोर व कोमल नाड़ी।

प्राकृतिक एवम् पॅंचगव्य चिकित्सा

गौ-नस्य

पॅंचगव्य चिकित्सा मे डिप्लोमा

निशुल्क पॅंचगव्य उत्पाद निर्माण एवम् प्रक्षिक्षण शिविर

निशुल्क चिकित्सा

गव्यशाला

गौ आधारित वैदिक पंचगव्य गुरुकुल एवम् चिकित्सा केंद्र

गव्यशाला... एक ऐसा स्थान जहाँ आप सीखेंगे पंचगव्य के माध्यम से शरीर का रोग निदान एवम् उत्पाद निर्माण...

गव्यशाला
विधाधर नगर
जयपुर
राजस्थान- 302023 भारत