बाल पाल रस छोटे बच्चों के विकास

घटक पदार्थ और उनकी मात्रा

  1. गोमूत्र चंद्रमा अर्क एक लीटर
  2. देसी शक्कर : 300 ग्राम देसी
  3. सूखी शतावरी : 50 ग्राम
    शतावरी की कंद (मूल) होती है । इस पर पतली छाल होती है । छाल को निकालने के लिए नए (ताजे) कंद को एक घंटा गुनगुने पानी में रखना चाहिए । ऐसा करने से छाल सहजता से निकलती है । कंद के मध्य में तारसमान खड़ा डोर रहता है । कंद को तोड़कर यह डोरा भी निकाल दें और शतावरी के छोटे-छोटे टुकड़े कर, धूप में सुखा लें ।
  4. नींबू- सत (साइट्रिक एसिड) : आधी चुटकी
  5. खाने का प्राकृतिक लाल रंग : आधी चुटकी
फ्री डाउनलोड करें

देशी गाय से 1 लाख रुपया महीना कमाने के 9 सूत्र

बनाने की विधि

  1. लोहे की कड़ाही में अथवा स्टील के पतीले में गोमूत्र चंद्रमा अर्क और शतावरी का मिश्रण उबालें ।
  2. उबाल आने पर उसमें देसी शक्कर डालें ।
  3. मिश्रण से झाग आए, तो उस झाग को निकालकर कीटनाशक में प्रयुक्त करने के लिए रख दें ।
  4. यह मिश्रण 700 मिलीलीटर शेष रह जाए, तब चूल्हे से उतार दें ।
  5. अब इसमें आधी चुटकी नींबू का सत और आधी चुटकी खाने का प्रकृतिक लाल रंग डालकर ठीक से मिला दें ।
  6. मिश्रण ठंडा होने पर छानकर चीनीमिट्टी की बरनी में एक चौथाई रिक्त रखकर भरें ।
  7. बरनी का ढक्कन ठीक से लगा कर उसे एक माह तक अंधेरी कोठरी में अनाज की राशि में, बालू में अथवा मिट्टी में गाड दें ।
  8. एक माह पश्चात् बरनी का ढक्कन खोलें और औषधि ऊपर-ऊपर से धीरे से निकाल कर छान लें नीचे की तलछट औषधि में न आने दें ।
  9. यह बाल पाल रस कांच की बोतल में, उनका पांचवा भाग रिक्त रखकर, भर लें ।

पॅंचगव्य चिकित्सा मे डिप्लोमा

निशुल्क पॅंचगव्य उत्पाद निर्माण एवम् प्रक्षिक्षण शिविर

प्राकृतिक एवम् पॅंचगव्य चिकित्सा

गौ-नस्य

निशुल्क चिकित्सा

गव्यशाला

गौ आधारित वैदिक पंचगव्य गुरुकुल एवम् चिकित्सा केंद्र

गव्यशाला... एक ऐसा स्थान जहाँ आप सीखेंगे पंचगव्य के माध्यम से शरीर का रोग निदान एवम् उत्पाद निर्माण...

गव्यशाला
विधाधर नगर
जयपुर
राजस्थान- 302023 भारत