• क्यों कहते है गौमूत्र को पृथ्वी पर सर्वश्रेष्ठ मूत्र ?

    क्यों कहते है गौमूत्र को पृथ्वी पर सर्वश्रेष्ठ मूत्र ?

    आयुर्वेद, ऋग्वेद के उपवेद के रूप में मानव-चिकित्सा के लिए वर्णन किया गया ज्ञान है- ‘आयुर्वेदो धनुर्वेदो गान्धवर्श्र्चेति ते त्रय:| स्थापत्यवेदमपरमुपवेदश्चतुर्विध: ||’ वेद अनादि, शाश्वत है | इसलिए आयुर्वेद मानव-जीवन के साथ ही चला आ रहा है | आज तक इसका ज्ञान शाश्वत, आधोपदेश है | तपस्वी महर्षियों द्वारा इस वेदज्ञान को संवर्धित किया गया

    Read more →

Photostream

मनीष भाई एक गौसेवक है | आपका एक ही लक्ष्य है, गौ सेवा के माध्यम से मानव सेवा… गौमाता के संरक्षण के लिए आपके कई प्रकल्प (जैसे- मेरी माँ) जयपुर में चल रहे है ओर अब ये स्वयं पंचगव्य चिकित्सा प्रशिक्षण देते है |

संबंधित समाचार