गव्य पित्तशामक चूर्ण

यह चूर्ण बनाने के लिए गोमूत्र क्षार का सीधे उपयोग नहीं किया जाता परंतु इसके कुछ घटक पदार्थ गोमूत्र अर्क बनाते समय गोमुत्र क्षार में भीगे होते हैं ।

घटक पदार्थ और उनकी मात्रा

  1. गोमूत्र चंद्रमा अर्क अथवा औषधिमिश्रित अर्क बनाते समय गौमूत्र में उबाली गई औषधी वनस्पतियों की सूखी हुई सीठी : 250 ग्राम
  2. अजवाइन : 250 ग्राम
  3. काला नमक : 50 ग्राम
  4. सेंधा नमक : 50 ग्राम
फ्री डाउनलोड करें

देशी गाय से 1 लाख रुपया महीना कमाने के 9 सूत्र

बनाने की विधि

  1. औषधीय वनस्पतियों की सुखाई गई सीठी को पीसकर बारीक चूर्ण बना लें ।
  2. अजवायन को कडाही में थोड़ा तपाकर मिक्सर में बारीक पीस लें ।
  3. काला नमक और सेंधा नमक खलबत्ते में कूटकर मिक्सर में पिस लें ।
  4. उपर्युक्त कपड़ाछान चूर्णों को बड़े डिब्बे में लेकर एक रूप होने तक मिलाएं ।
  5. इस चूर्ण को वायु रोधक बरनी में भरकर रख दें ।

पॅंचगव्य चिकित्सा मे डिप्लोमा

निशुल्क पॅंचगव्य उत्पाद निर्माण एवम् प्रक्षिक्षण शिविर

प्राकृतिक एवम् पॅंचगव्य चिकित्सा

गौ-नस्य

निशुल्क चिकित्सा

गव्यशाला

गौ आधारित वैदिक पंचगव्य गुरुकुल एवम् चिकित्सा केंद्र

गव्यशाला... एक ऐसा स्थान जहाँ आप सीखेंगे पंचगव्य के माध्यम से शरीर का रोग निदान एवम् उत्पाद निर्माण...

गव्यशाला
विधाधर नगर
जयपुर
राजस्थान- 302023 भारत