गोमूत्र मधुमेहारी चूर्ण (मधुमेह)

घटक पदार्थ और उनकी मात्रा

  1. सप्तरंगी नामक वनस्पति की जड़ : 250 ग्राम
  2. जामुन के बीज : 100 ग्राम
  3. चिरायता : 50 ग्राम
  4. करेले के सूखे पत्ते : 50 ग्राम
  5. मेथी दाना : 50 ग्राम
  6. गुडमार नामक वनस्पतिके पत्ते : 100 ग्राम
  7. गोमुत्र क्षार : आवश्यकतानुसार
पंचगव्य चिकित्सा प्रशिक्षण निशुल्क: पंचगव्य उत्पाद निर्माण शिविर पंचगव्य उत्पाद

बनाने की विधि

  1. एक चीनीमिट्टी के अथवा अच्छी गुणवत्ता के प्लास्टिक के बर्तन में पर्याप्त गोमूत्र क्षार लेकर उसमे उपर्युक्त सभी औषधियां एक साथ 7 दिन तक भिगाकर रखें ।
  2. आठवें दिन यह मिश्रण परात में लेकर, धूप में पूर्णतः सुखा लें ।
  3. इसके पश्चात इसका बारीक चूर्ण बनाकर वायु रोधक कांच की बरनी में रख दें ।

पॅंचगव्य चिकित्सा मे डिप्लोमा

निशुल्क पॅंचगव्य उत्पाद निर्माण एवम् प्रक्षिक्षण शिविर

प्राकृतिक एवम् पॅंचगव्य चिकित्सा

गौ-नस्य

निशुल्क चिकित्सा

गव्यशाला

गौ आधारित वैदिक पंचगव्य गुरुकुल एवम् चिकित्सा केंद्र

गौ लोक धाम... एक ऐसा स्थान जहाँ आप सीखेंगे पंचगव्य के माध्यम से शरीर का रोग निदान एवम् उत्पाद निर्माण...

गव्यशाला
विधाधर नगर
जयपुर
राजस्थान- 302023 भारत